खलील जिब्रान के अनमोल विचार

Khalil-Gibran1खलील जिब्रान का जन्म 6 जनवरी 1883 को लेबनान के ‘बथरी’ नगर में एक संपन्न परिवार में हुआ था। 12 वर्ष की आयु में ही माता-पिता के साथ बेल्जियम, फ्रांस, अमेरिका आदि देशों में भ्रमण करते हुए 1912 में अमेरिका के न्यूयॉर्क में स्थायी रूप से रहने लगे थे। खलील जिब्रान संसार के श्रेष्ठ चिंतक, महाकवि, अरबी, अंगरेजी और फारसी भाषा के ज्ञाता, दार्शनिक और चित्रकार भी थे। 48 वर्ष की आयु में कार दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल होकर 10 अप्रैल 1931 को उनका न्यूयॉर्क में ही देहांत हो गया।

खलील जिब्रान के कुछ अनमोल विचारो को मैं यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ जो सभी के लिए बहुत ही प्रेरणादायक है |

खलील जिब्रान के अनमोल विचार 

  1. उत्कंठा ज्ञान की शुरुआत है।
  2. आत्मा जो चाहती है, वो पा लेती है।
  3. आत्मज्ञान सभी ज्ञानो की जननी है।
  4. आपका दोस्त आपकी ज़रूरतों का जवाब है।
  5. मंदिर के द्वार पर हम सभी भिखारी ही हैं।
  6. इच्छा आधा जीवन है और उदासीनता आधी मौत।
  7. जीवन और मृत्यु एक हैं, जैसे नदी और समुद्र एक हैं।
  8. किसी भी नींव का सबसे मजबूत पत्थर सबसे निचला ही होता है।
  9. दोस्ती एक ख़ूबसूरत जिम्मेदारी है।  ये कोई अवसर या मौका नहीं है।
  10. अपने सुख-दुःख अनुभव करने से बहुत पहले हम स्वयं उन्हें चुनते हैं।
  11. तसल्ली के साथ ज़िन्दगी को मुड़कर देखना ही उसे फिर से जीने जैसा है।
  12. बीता हुआ कल आज की स्मृति है , और आने वाला कल आज का स्वप्न है।
  13. प्रेम के बिना जीवन उस वृक्ष के सामान है जिस पर कभी ना तो बहार आये और ना कभी फल आये |
  14. प्रेम स्वयं अपनी गहराई नहीं जानता है जब तक कि बिछड़ने का वक़्त ना आये ?
  15. यथार्थ में अच्छा वही है जो उन सब लोगों से मिलकर रहता है जो बुरे समझे जाते हैं।
  16. प्यार और शक के बीच दोस्ती कभी मुमकिन नहीं है।  जहाँ प्यार है वहाँ शक नहीं होता।
  17. जो है उसे बेहतर बनाना उन्नति नहीं, लेकिन उसे नई मंज़िल तक लेकर जाना उन्नति है।
  18. आपके जीवन में आज़ादी नहीं है तो आप उस शरीर की तरह है जिसमें से आत्मा गायब है।
  19. यदि तुम्हारे हाथ रुपए से भरे हुए हैं तो फिर वे परमात्मा की वंदना के लिए कैसे उठ सकते हैं।
  20. कष्ट सह कर ही सबसे मजबूत  लोग निर्मित होते हैं, सबसे महान चरित्रों  पर घाव के निशान होते हैं।
  21. थोडा ज्ञान जो प्रयोग में लाया जाए, वो उस बहुत सारे ज्ञान से ,जो बेकार पड़ा है, कहीं अधिक मूल्यवान है।
  22. जो सही है वो लोगों के दिल के करीब होता है , लेकिन जो दयालु है वो भगवान् के दिल के करीब होता है।
  23. आप बिना प्यार के और आधे-अधूरे मन से काम कर रहे हैं तो बेहतर है कि आप उस काम को करना छोड़ दें।
  24. जो पुरुष स्त्रियों की छोटी छोटी गलतियों को माफ़ नहीं करते, वे उनके महान गुणों का सुख नहीं भोग सकते।
  25. यथार्थ महापुरुष वह आदमी है जो न दूसरे को अपने अधीन रखता है और न स्वयं दूसरों के अधीन होता है।
  26. दानशीलता यह है कि अपनी सामर्थ्य से अधिक दो और स्वाभिमान यह है कि अपनी आवश्यकता से कम लो।
  27. जब हम एक-दूसरे की मदद करने या उन्हें समझाने के लिए मुड़ते हैं तो हम अपने दुश्मनों की संख्या कम कर देते है।
  28. यदि तुम जाति, देश और व्यक्तिगत पक्षपातों से जरा ऊँचे उठ जाओ तो निःसंदेह तुम देवता के समान बन जाओगे।
  29. विश्वास और भरोसे की दिल में अलग जगह होती है।  हर वक़्त सोचते रहने से विश्वास हासिल नहीं किया जा सकता है।
  30. जो बीत चुका है वो आज के लिए सुन्दर याद है, लेकिन आने वाला कल आज के लिए किसी हसीन सपने से कम नहीं है।
  31. यदि तुम्हारे हृदय में ईर्ष्या, घृणा का ज्वालामुखी धधक रहा है, तो तुम अपने हाथों में फूलों के खिलने की आशा कैसे कर सकते हो?
  32. ज्ञान ज्ञान नहीं रह जाता जब वह इतना अभिमानी हो जाए कि रो भी ना सके, इतना गंभीर हो जाए कि हँस भी ना सके और  इतना स्वार्थी हो जाये कि अपने सिवा किसी और का अनुसरण ना कर सके।
  33. यदि तुम अपने अंदर कुछ लिखने की प्रेरणा का अनुभव करो तो तुम्हारे भीतर ये बातें होनी चाहिए- 1.ज्ञान कला का जादू, 2. शब्दों के संगीत का ज्ञान और 3. श्रोताओं को मोह लेने का जादू।
  34. दोस्ती की मिठास में हास्य और खुशियों का बांटना होना चाहिए। क्योंकि छोटी -छोटी चीजों की ओस में दिल अपनी सुबह खोज लेता है और तरोताज़ा हो जाता है।
  35. किसी व्यक्ति के दिल और दिमाग को समझने के लिए यह न देखिए कि वह क्या हासिल कर चूका है। इस बात की तरफ ध्यान दीजिए कि वह क्या हासिल करने की ख्वाहिश रख रहा है।
  36. यदि आप किसी से प्रेम करते हैं तो उसे जाने दें , क्योंकि यदि वो लौट कर आता हैं तो वो हमेशा से आपका था। और यदि नहीं लौटता हैं तो वो कभी आपका था ही नहीं।
  37. जो शिक्षक वास्तव में बुद्धिमान है वो आपको अपनी बुद्धिमता में प्रवेश करने का आदेश नहीं देता बल्कि वो आपको आपकी बुद्धि की पराकाष्ठा तक ले जाता है।
  38. आगे बढ़ो, कभी रुको मत , क्योंकि आगे बढ़ना पूर्णता है | आगे बढ़ो और रास्ते में आने वाले काँटों से डरो मत , क्योंकि वे सिर्फ गन्दा खून निकालते हैं|
  39. मैं तुमसे प्रेम करता हूँ जब तुम अपने मस्जिद में झुकते हो, अपने मंदिर में घुटने टेकते हो, अपने गिरजाघर में प्रार्थना करते हो। क्योंकि तुम और मैं एक ही धर्म की संतान हैं , और यही भावना है।
  40. मुझे उस ज्ञान से दूर रखो जो रोता न हो , उस दर्शन से दूर रखो जो हँसता न हो और उस महानता से दूर रखो जो बच्चों के सामने सर न झुकाता हो।
  41. अगर आपने अपना कोई रहस्य किसी एक व्यक्ति को बताया है, तो आप उसे अपने इस रहस्य को दूसरे लोगो को बताने से रोक नहीं सकते है।
  42. एक दूसरे से प्रेम करें, लेकिन प्रेम का कोई बंधन ना बाधें , बल्कि इसे अपनी आत्माओं के किनारों के बीच एक बहते हुए सागर के सामान रहने दें।
  43. कोई आपको ज़ख्म देता है तो बेशक आप उसे एक बार भूल जाए, लेकिन अगर आप किसी को दर्द पहुंचाते हो तो उसे जीवन भर नहीं भूल पाते हो।
  44. दानशीलता यह नहीं है कि तुम मुझे वह वस्तु दे दो, जिसकी मुझे आवश्यकता तुमसे अधिक है, बल्कि यह है कि तुम मुझे वह वस्तु दो, जिसकी आवश्यकता तुम्हें मुझसे अधिक है।

Related Posts:

भारतरत्न डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के महान विचार
शिव खेड़ा के अनमोल विचार
बिल गेट्स के अनमोल विचार
अल्बर्ट आइंस्टीन के अनमोल विचार
धीरूभाई अम्बानी के अनमोल विचार


“आपको ये प्रेरणादायक लेख कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ……………धन्यवाद”

“यदि आपके पास Hindi में  कोई  Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development या  Motivation से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ  हमें  E-mail करें. हमारी E-mail Id है : gyanversha1@gmail.com.

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

3 thoughts on “खलील जिब्रान के अनमोल विचार

  1. Pingback: अरस्तु के अनमोल विचार – Gyan Versha
  2. Pingback: दलाई लामा के अनमोल वचन – Gyan Versha
  3. Pingback: स्वामी विवेकानन्द के अनमोल विचार – Gyan Versha

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s