करवा चौथ पर प्रेम और समर्पण की दो कहानियां

विवाह, सोलह संस्कारों में से एक है। एक ऐसा बंधन, जिसमें बंधने के बाद हर पत्नी सदा सुहागिन ही रहना चाहती है। इसी के लिए हमेशा कामना करती है। व्रत, पूजा, दान पुण्य और न जाने क्या क्या करती है। यह सब पति की सुख समृद्धि के लिए। जीवन भर में न जाने कितने ही व्रत वह करती ही जाती है। इन व्रतों पर ही उसका विश्वास और इसी विश्वास में और अधिक मजबूत होता जाता है पति पत्नी का रिश्ता। एक ऐसा रिश्ता जो देता है एक दूसरे को ताकत, प्रेरणा और आगे बढ़ने का हौंसला। बुनता है एक दूसरे के लिए सपने और उन्हें पूरा भी करता है। आज करवा चौथ के इस खास अवसर पर हम इस रिश्ते की कुछ ऐसी ही कहानियां लेकर आए जहां पति पत्नी एक दूसरे की ताकत बन गए, एक दूसरे के प्रति समर्पित हो गए ताकि एक दूसरे का सपना पूरा कर सकें।

कस्टम इंस्पेक्टर ने 9वीं पास लड़की से की थी शादी, आज चला रहीं खुद का बिजनेस |

जावाल के रहने वाले जगदीश ओझा। अहमदाबाद में कस्टम सुपरिडेंट। 1990 में शादी हुई। पत्नी अनुपमा ओझा नौंवी पास। तब खुद इसी डिपार्टमेंट में इंस्पेक्टर थे। पत्नी कम पढ़ी लिखी थी, लेकिन कभी इस बात का मलाल नहीं किया बल्कि उसकी ताकत बन गए। पत्नी को प्रेरणा दी। समझाया और आगे पढ़ाया। पहले दसवीं फिर 12 वीं। पत्नी को गाने का शौक था। वह गायिका बनना चाहती थी। जब जगदीश ओझा को पता चला तो तुरंत म्यूजिक क्लासेज लेकर गए। पत्नी के सपने को खुद की आंखों से देखा और आज अनुपमा एक सफल गायिका हैं। उनकी सीडी बाजार में बिकती हैं। कई आयोजनों में उन्हें बुलाया जाता है। सपने यहीं नहीं थमे।

1

नौंवी पास वह अनुपमा आज खुद का बिजनेस भी चला रही हैं। अहमदाबाद में ही हैंडीक्रॉफ्ट का बिजनेस। खुद ने शुरु किया तो पति जगदीश ओझा ने एक सपना भी दिखाया, कहा पांच साल के अंदर अंदर इसे एक्सपोर्ट इंपोर्ट बिजनेस बनाना है। अब अनुपमा पति के उसी सपने को पूरा करने में जुटी हैं। जगदीश ओझा बताते हैं कि इसमें मैंने कुछ नहीं किया। मैने तो बस उसके सपनों को खुद की आंखों से देखना शुरु कर दिया। वैसे ही जैसे वह मेरे हर सपने को पूरा करने के लिए न जाने क्या क्या करती है।

Source – www.bhaskar.com

जन्म से नेत्रहीन पति की ताकत बनी पत्नी, IAS बनाने को हर पल देती है साथ

सरूपगंज कस्बे के गुर्जर मोहल्ले में रहने वाले ओमप्रकाश। जन्म से ही नेत्रहीन। बिल्कुल नहीं देख सकते। एमए तक की पढ़ाई की और अब कस्बे से 50 किलोमीटर दूर गुजरात में अमीरगढ़ के एक स्कूल में सरकारी शिक्षक। रोजाना आना जाना। देख नहीं पाने की भारी परेशानियां, लेकिन उनकी यह सारी परेशानियां दूर की पत्नी सेहनल ने। वह देख सकती हैं और अपनी आंखों को ही उसने पति की आंखें बना दिया है।

2

जब शादी हुई थी तब भी पता था कि जिससे शादी हो रही है वह देख नहीं सकते। खुद में कोई कमी नहीं। इसीलिए तो आज पति की ताकत बन गई हैं। हर रास्ते पर उनकी आंखें बन गई है। सेहनल रोजाना ओमप्रकाश के साथ अमीरगढ़ जाती। दोनों बस से जाते हैं। सेहनल पति को रास्ता दिखाती है। स्कूल तक छोड़ती है और फिर शाम तक इंतजार करती। छुट्टी के बाद दोनों वापस सरूपगंज आते।

ओमप्रकाश आईएएस बनना चाहते हैं। अपनी आंखों में सेनहल उसी सपने को पाले बैठी है। सेहनल ने ठाना है कि वह पति के इस सपने को जरुर पूरा करवायेगी। ओमप्रकाश बताते हैं कि पत्नी ने जो ताकत दी है। उसकी बदौलत अब हर राह आसान लगने लगी है। आने जाने में समय व्यर्थ नहीं हो। इसलिए दो माह पहले ही अब दोनों ने अमीरगढ़ में ही मकान किराये पर लिया है।

Source – www.bhaskar.com

दोस्तों, ये दो कहानिया हमें बताती हैं पति पत्नी के रिश्ते का असली मतलब | इन दो कहानियों से हमें पता चलता है पति पत्नी के रिश्ते के  प्यार और समर्पण का | ये सत्य है कि जिस रिश्ते में प्यार , सच्चाई , विश्वास, त्याग और समर्पण है वो रिश्ता बहुत मजबूत होता है और ज़िंदगी भर चलता है | इसलिए आज से ही इन चीजों को अपनी ज़िंदगी में उतार लीजिये और बन जाइये एक दूसरे के सच्चे साथी , बन जाइये एक दूसरे की ताकत, बन जाइये एक दूसरे की उम्मीद, और बन जाइये एक दूसरे की जीने की वजह | फिर देखिये खुशियाँ कैसे चल कर आपके दामन में आती हैं और आपका रिश्ता कितना मधुर और मजबूत होता है | 

इसे भी पढ़े –  करवा चौथ : पूजा की विधि और व्रत कथाएं

इसे भी पढ़े – करवा चौथ : 10 Tips से जीते अपने साथी का दिल

—————————————————————————————————————–

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया करके इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें |

“आपको ये लेख कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास Hindi में  कोई  Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development या  Motivation , Health से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ  हमें  E-mail करें |

हमारी  E-mail Id है : gyanversha1@gmail.com.

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

2 thoughts on “करवा चौथ पर प्रेम और समर्पण की दो कहानियां

  1. Pingback: करवा चौथ : 10 Tips से जीते अपने साथी का दिल | Gyan Versha
  2. Pingback: करवा चौथ : पूजा की विधि और व्रत कथाएं | Gyan Versha

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s